Thursday, 20 September 2018

छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश से BSP की बड़ी खबर

छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश से BSP की बड़ी खबर

Mayawati ji and Ajit Jogi
Mayawati ji and Ajit Jogi
आज 20 सितंबर को बहुजन समाज पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस जारी करके छत्तीसगढ़ तथा मध्य प्रदेश में 2018 में होने वाले चुनाव को लेकर बड़ा फैसला लिया, छत्तीसगढ़ में बहुजन समाज पार्टी तथा छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के साथ गठबंधन किया जिसने छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया आपको बता दें कि अजीत जोगी आदिवासी समाज से आते हैं उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद IAS बने तथा मंत्री सांसद बने तथा 2001 में छत्तीसगढ़ के सबसे पहले मुख्यमंत्री बने कांग्रेस से मतभेद के बाद उन्होंने अपनी पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की स्थापना की और अभी होने वाले चुनाव में बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन किया ।
गठबंधन में बहुजन समाज पार्टी को 35 सीटें तथा छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस को 55 सीटों पर गठबंधन हुआ तथा अजीत जोगी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बहन मायावती जी ने घोषित किया । मायावती जी ने कहा कि “ भारतीय जनता पार्टी पिछले 15 सालों से पावर में हैं तथा BJP ने 15 सालों में कुछ नहीं किया जो जी का सेक्शन के लोग हैं दलित पिछड़ा आदिवासी के लोग हैं अपर कास्ट के लोग हैं किसान मजदूर मेहनतकश लोग हैं उनके लिए केवल मीडिया में बरबरी घोषणाएं घोषित करते रहे लेकिन जमीनी हकीकत में कुछ काम नहीं हुआ है ”
वहीं मध्यप्रदेश में भी बहुजन समाज पार्टी ने 22 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है ऐसे में अब देखना होगा कि बहुजन समाज पार्टी इन मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ राजस्थान 3 राज्यों के चुनाव में कैसा प्रदर्शन करती है यह पार्टी के प्रदर्शन के आधार पर पता चलेगा ।
...............................………………………….........................

BSP big news from Chhattisgarh Madhya Pradesh



Today on 20th September Bahujan Samaj Party took a big decision on the elections in Chhattisgarh and Madhya Pradesh by releasing a press conference on September 20, with the Bahujan Samaj Party in Chhattisgarh and the Chhattisgarh Janata Congress, which together with Chhattisgarh Chief Minister Ajit Jogi, Chief Minister Announced the candidate for the post, tell you that Ajit Jogi comes from tribal society After IAS became an IAS and Minister became a Member of Parliament and after becoming the first Chief Minister of Chhattisgarh in 2001, after the differences with the Congress, he founded his party Chhattisgarh Janata Congress and formed a coalition of Bahujan Samaj Party in the upcoming elections.

In the coalition, the Bahujan Samaj Party got 35 seats and Chhattisgarh Janata Congress got 55 seats and Ajit Jogi was declared the Chief Ministerial candidate by sister Mayawati. Mayawati ji said that "Bharatiya Janata Party has been in power for the past 15 years and BJP has done nothing in 15 years, people of G section are people of Dalit backward tribal people. People of Upper cast are farmers laborers working for them. He continued to declare barbarity announcements only in the media, but in the ground reality there was no work "
At the same time, Bahujan Samaj Party has released the first list of 22 candidates in Madhya Pradesh, and now it is necessary to see how Bahujan Samaj Party demonstrates how the Madhya Pradesh Chhattisgarh performs in the elections of three states in Madhya Pradesh, depending on the performance of the party.

Sunday, 16 September 2018

बिना नाम लिए चंद्रशेखर रावण पर बहन जी का बयान

बिना नाम लिए चंद्रशेखर रावण पर बहन जी का बयान

सभी साथियों को जय भीम आज बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बहन कुमारी मायावती जी की प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई जिसमें बहन जी ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण पर बयान दिया यह बयान मैं शेयर कर रहा हूं तथा आप अपनी राय दें...
Chandrashekhar
Mayawati ji and Chandrashekhar Ravan

कुछ लोग अपने राजनीतिक स्वार्थ में तो ,कुछ लोग अपने बचाव तथा कुछ नौजवान दिखाने के लिए भी दिखाने के लिए भी जबरदस्ती का मेरे साथ कभी भाई बहन का तो कभी बुआ भतीजे का रिस्ता जोड़ देते है ,
उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में कराया गया खूनी कांड , में दलित उत्पीड़न कांड, इसमें शामिल केरल के साथ अभी-अभी व्यक्ति समाज में इन सब कमियों पर पर्दा डालने के लिए अब वह भी अपना जबरदस्ती का मेरे साथ बुआ और भतीजा का रिश्ता बता रहा है, इस किस्म के सभी लोगों को यह बताना चाहती हूं ,कि मेरा वास्तव में सही मायने में किसम के लोगों से, कभी भी पूरे तहे दिल व सम्मान के साथ रिश्ता नहीं हो सकता, बल्कि पूरे देश में पूरे सम्मान के साथ मेरा रिश्ता देश के केवल दलित, आदिवासियों के अन्य कमजोर वर्गों के लोगों से जिनके लिए मैंने अपनी पूरी जिंदगी समर्पित की मुझे अपना आदर्श मानकर चलता हमेशा में सुख दुख की घड़ी में मेरे साथ खड़े रहे हैं ,इसके साथ-साथ यह सावधानी के तौर पर खासकर दलितों आदिवासियों के अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों यह भी कहना चाहूंगी कि जिन लोगो ने वर्षो से आये दिन ऐसे बहुत से हजारों संगठन  चला आ रहे हैं, इसकी आड़ में वह किसी वे किसी न किसी अपनी रोजी रोटी का धन्धा चलते रहते है , और अपने समाज के लोगों के सामने और जो लोग अपने समाज के लोगों के सामने कहते कहते कुछ है और करते कुछ और है ,इसलिए सभी स्वार्थी किस्म के संगठनों में तत्वों के लिए इन वर्गों के लोगों को जरूर सावधान होना चाहिए ।  और इतना ही नहीं इस किस्म के वास्तव में व पूरी ईमानदारी से हमारे हितेशी व शुभचिंतक होते तब फिर लोगों को अपना कोई अलग संगठन बनाने की जरूरत न होती बल्कि फिर यह लोग पूरे देश में अपनी मातृ हितेषी बा कल्याणकारी पार्टी अर्थात BSP के झंडे के नीचे जुड़कर ही परम पूज्य डॉ बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर तथा मान्यवर कांशीराम साहब के मूवमेंट को  आगे बढ़ाते ।

In english






Some people, in their political interest, also show somebody to show their defense and show some young men, forcibly join me with the brother's sister and also the buoyant nephew,



In the bloody murder case of Shabbirpur village in the district of Saharanpur in Uttar Pradesh, the Dalit Harassment scandal, included in it, included in it, now in person to cover all these shortcomings in the society, now she also forcibly bunga and nephew Relationship is telling, I want to tell all the people of this kind, that in reality I really do not have relationships with the people of Kisam, and with complete heart and respect. It can be, but my relation with whole respect throughout the country is only with the people of the dalit, other weaker sections of the tribals, whom I dedicate my whole life to myself as my ideal and always stand in front of me in times of sadness Along with this, as a precaution, especially among the people of other backward classes of the dalit tribal people, I would like to say that those who have come from years of age Thousands of organizations are coming out from under it, under the guise of it, they are going to walk some other way to their livelihood, and in front of people of their own society and those who say in front of the people of their society and do something There is something else, so for all elements of selfish kind of organizations, people of these sections must be careful. Not only this, but in reality and sincerely, we would have no need to create a separate organization, but then these people would have to go all over the country under the flag of our Maternal Welfare Party, ie BSP. By joining the movement of the supreme worshiper Dr. Babasaheb Bhimrao Ambedkar and the legendary Kanshi Ram Sahab.
Related Article:- चंद्रशेखर रावण का महागठबंधन को समर्थन

Wednesday, 29 August 2018

सामाजिक कार्यकर्ताओं के Arrest पर मायावती जी का बयान

सामाजिक कार्यकर्ताओं के Arrest पर मायावती जी का बयान

BSP Press Release
आज बहन मायावती जी ने 5 सामाजिक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के मुद्दे पर Press Release जारी की जिनके नाम वीर वरराव राव, अरुण फरेरिया, गौतम नवलखा, सुधा भारद्वाज, वरनॉन गोंजाल्वेस शामिल है
आज 29 अगस्त को मायावती जी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके 5 Social Workers देशभर के जो गिरफ्तार किए गए हैं उनको लेकर बहन जी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी की है ,
देशभर में सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों की गिरफ्तारी को बसपा प्रमुख Mayawati Ji ने निरंकुश तथा सत्ता का दुरुपयोग बताया है ।
आपको बता दें कि 7 शहरों में पुलिस ने रेड डालकर 5 सामाजिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है जिनमें हैदराबाद के वीर वरराव राव, अरुण फरेरिया, गौतम नवलखा, सुधा भारद्वाज, वरनॉन गोंजाल्वेस जैसे पांच एक्टिविस्ट पर कार्रवाई करके गिरफ्तार कर लिया गया है, बहन जी की Press Release के मुख्य बिंदु आपसे शेयर कर रहा हूं इसे पढ़ें और अधिक से अधिक  व्यक्तियों तक पहुंचाए ।
1.भीमा कोरेगांव में दलितों की जबरदस्त एकजुटता BJP सरकार को पसंद नहीं आई है ,समारोह के बाद हिंसा फैलाई गई और उसकी आड़ में दलितों पिछड़ों आदिवासियों के हक के लिए काम कर रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं  Social Workers) की धड़पकड़ की जा रही है ।
2. BSP प्रमुख के अनुसार यह लोग अन्याय और अत्याचार और जमीन से बेदखली के मामलों में कोर्ट कचहरी में संघर्ष करते हैं ।
3.आतंक और डर फैलाने के उद्देश्य में करी गई कल देशभर में हुई गिरफ्तारियां, BJP सरकार की निरंकुशता की पराकाष्ठा और जितनी भी निंदा की जाए वो कम है ।
4. देश के कवि ,महिला, वकील, प्रोफेसर बुद्धिजीवियों Intellectuals के गिरफ्तारी से अपनी विफलताओं से लोगों का ध्यान बांटना चाहती है सरकार ,इस द्वेषपूर्ण कार्रवाई से लोगों में व्यापक आक्रोश है ।
5. भीमा कोरेगांव मामले में जिनके खिलाफ FIR है ,उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाई है सरकार ,इसके बजाय उन विख्यात लोगों को Arrest किया जा रहा है जिनका सार्वजनिक जीवन खुली किताब है ।
6. इन सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों पर नफरत फैलाने का आरोप बेतुका और विद्वेषपूर्ण malicious है ।
7. 5 लोगों की गिरफ्तारियां उस दौर की याद दिलाता है जब गुजरात में CM की हत्या की साजिश की आड़ में लगातार पुलिस एनकाउंटर हुए थे ।
8. BJP को ऐसी जनविरोधी और कार्यप्रणाली से बचना चाहिए ।
उम्मीद है इस प्रेस विज्ञप्ति के मुख्य बिंदुओं को आप पढ़ेंगे और ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करेंगे ।
……………………………………………………....................................
BSP Press Note
Press Release Note
Mayawati's statement on the arrest of social workers

On August 29, Mayawati issued a press release and she has issued a press release regarding 5 social workers who have been arrested all over the country,

The arrest of social workers and intellectuals across the country has been described by BSP chief Mayawati as autocratic and misuse of power.

Let us tell you that in seven cities, police have arrested 5 social workers by arresting Red, in which five activists of Hyderabad, Veer Varavarao Rao, Arun Ferreya, Gautam Navlakha, Sudha Bharadwaj, Varanon Gonzalez have been arrested and arrested, sister I am sharing with you the main points of the press release and read it and reach more people.

1. The great unity of Dalits in Bheema Koregaon has not been liked by the BJP government, violence has been spread after the ceremony and under the guise of social workers working for the rights of Dalits and backward tribals is being thrashed.

2. According to the BSP chief, these people fight in Court Courts in cases of injustice and tyranny and eviction from the land.

3. The purpose of spreading terror and fear is to bring the arrests of the nation, the absolutism of the BJP government's autocracy and the condemnation of the same as it has been done.

4. The government wants to share the attention of people with their failures from the arrest of the poets, women, lawyers, professors and intellectuals of the country, there is widespread anger among the people with this malicious act.

5. In the Bhima Koregaon case, the FIR against whom the FIR is not arrested, the government is instead arresting those famous people whose public life is open book.

6. The allegation of spreading hatred on these social workers and intellectuals is absurd and malicious.

7. The arrest of 5 people reminds of the time when there were constant police encounter under the guise of murder of Chief Minister in Gujarat.

8. BJP should avoid such anti-people and methodology.

Hopefully you will read the main points of this press release and share it to as many people as possible.
Source by:- Dalit News Network

Tuesday, 28 August 2018

मायावती जी ने किया BJP पर हमला

मायावती जी ने किया BJP पर हमला


आज 28 अगस्त को बसपा प्रमुख बहन मायावती जी Press release जारी करके केरल में हुई आपदा पर शोक जताया है और साथ ही बसपा प्रमुख ने केंद्र की सरकार (Central Government) पर हमला बोला है और कहा है कि केंद्र की सरकार  केरल के साथ सौतेला व्यवहार करने की कड़ी निंदा करी Press release की मुख्य बिंदु सभी से शेयर कर रहा है उम्मीद है इसे पढ़ेंगे और Share करेंगे ।

1.केरल में आई बाढ़ शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदी है ।

2.आपदा से परेशान लोगों के साथ BJP और केंद्र सरकार ने सौतेला व्यवहार किया है ।

3.केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करके पुनर्वास Rehabilitation में हर संभव मदद करनी चाहिए ।

4.बहन जी ने कहा कि ,केरल के साथ-साथ कर्नाटक में भी सभी प्रकार की मदद करनी चाहिए ।

5. केंद्र सरकार का रवैया पूरे मामले में गंभीर और संवेदनशील (sensitive) नहीं रहा और न ही सरकार केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर रही है और न ही States GST में सेस लगाने की अनुमति दे रही है ।

6. इसे भाजपा की संक्रिया राजनीति नहीं कहा जाए तो और क्या कहा जाएगा ।

7. BSP के दक्षिण के सभी राज्यों की यूनिट से तन मन धन से मदद करने के निर्देश दिए हैं ।

8. 10 लाख परिवार वह घर हो गए हैं जो कि एक महाविपत्ति कहां जाएगा, ऐसी घोर आपदा में केंद्र और राज्य को राजनीतिक संकीर्णता बुलाकर मदद के लिए आगे आना चाहिए ।

9. केंद्र की घोर उदासीनता और निष्क्रियता (Inactivity) का परिणाम है कि मुख्यमंत्री की दुनिया भर के मलयाली केरलवासियों से सहायता मांगने पड़ रही है, और साथ ही उन्होंने कहा कि मंत्रियों को हवाई दौरों की जगह जिला प्रशासन को संसाधन resources मुहैया कराए जाने चाहिए ।
…………………………………………………......................................

Mayawati ji attacked again on BJP:-
Today, on August 28, BSP chief Mayawati has expressed condolence over the disaster in Kerala by issuing a press release, and the BSP chief has attacked the central government and said that the central government has strongly condemned the step of dealing with Kerala. Curry is sharing the key point of the press release, hoping to share it and share it.

1. The flood in Kerala is the biggest tragedy of the century.

2. The BJP and the Central Government have treated the step with the people troubled by the issue.

3. All possible help should be made in rehabilitation by declaring the flood of Kerala as a national calamity.

4. Mayawati ji said that all kinds of help should be done in Karnataka as well as in Karnataka as well.

5. The attitude of the Central Government has not been serious and sensitive in the whole matter, nor is the government declaring the flood of Kerala as a national calamity nor is the state permitting to cede the GST.

6. If it is not called BJP's operational politics then what will be said.

7. The BSP has instructed all the states in the South to help with money.

8. 10 lakhs of families have become a house where a mahapatta will go, in such a disaster, the Center and the State should come forward for help by calling political conservatives.

9. The outcome of the Center's grim indifference and inaction is that the chief minister is seeking help from Malayalee Keralites all over the world, and also said that the ministers should be provided resources to the district administration instead of air trips.
BSP Press release note
BSP Press release note


Source by:- Dalit News Network

Thursday, 16 August 2018

अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर BSP की प्रेस ज्ञप्ति



अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर BSP की  प्रेस ज्ञप्ति
कल पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का लंबी बीमारी के चलते निधन हो गया तथा कल BSP सुप्रीमो बहन कुमारी मायावती जी ने प्रेस विज्ञप्ति release जारी करके शोक व्यक्त किया है और कहा है कि राष्ट्र की ऐसी क्षति damage है जिसको पूरा नहीं किया जा सकता है :-

1.पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर Mayawati ji ने गहरा दुख व्यक्त किया ।

2.ग्वालियर में जन्मे श्री वाजपेयी ने पत्रकारिता journalism से जीवन शुरू किया और बाद में लखनऊ सीट से कई बार सांसद चुने गए ।

3.कवि मन वाले श्री वाजपेयी को सार्वजनिक जीवन में उनके योगदान (remembered) के लिए हमेशा याद किया जाएगा ।

4.श्री वाजपेयी चार दशकों से भी ज्यादा भारतीय राजनीति में सक्रिय active रहे हैं

5.श्री वाजपेयी पहले जनसंघ और बाद भाजपा में रहने के बावजूद व्यापक तौर पर सम्मान honor की दृष्टि से देखे जाते थे ।
6.उन्होंने हमेशा पार्टी और सरकार में रहते हुए देश और society की भलाई करने का प्रयास किया है ।

7.उनके बारे में कहा जाता है कि वह सही सोच thinking वाले नेता थे लेकिन गलत पार्टी में रहे ।

8.सांसद केंद्रीय मंत्री और प्रधानमंत्री के रूप में उनके अमूल्य योगदान  को सदा याद remember किया जाएगा ।

9.भाजपा कि वर्तमान सरकार में भी श्री वाजपेयी की पाकिस्तान और कश्मीर संबंधी नीतियों को लोगों ने लगातार याद remember किया ।

10.लोगों का मानना है कि अगर स्वस्थ रहते तो भाजपा कभी इतना जन विरोधी सुकुचित अहंकारी और विद्वेषपूर्ण  नीति वाली Party नहीं बनती ।

11.मायावती जी ने कहा कि अगर से वाजपेयी स्वस्थ रहते तो देश country में हिंसा आफतकारी के माहौल के बजाय शांति और सदभाव  होता ।

In English


BSP press release on Atal Bihari Vajpayee's demise

Last day, due to a prolonged illness of former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee, and yesterday, BSP supremo Bahan Kumari Mayawati has expressed her condolence by issuing a press release and said that there is such a damage to the nation which can not be fulfilled: -


1. Mayawati expressed her deep condolences on the passing away of former Prime Minister Shri Atal Bihari Vajpayee.


2. Born in Gwalior, Shri Vajpayee started life from journalism and later many times MP from Lucknow constituency was elected.


3. Shri Vajpayee, who has a mind-set, will always be remembered for his contributions in public life.


4. Shri Vajpayee has been active in Indian politics for more than four decades.


5. Shri Vajpayee was widely seen in honor of the people in the Jana Sangh and later in the BJP.

6. He has always tried to do good for the country and society while living in the party and government.


7. They are said to be leaders of right thinking but staying in the wrong party.


8. Union Minister and his priceless contribution in the form of Prime Minister will be always remembered.


9. Bhajpa that in the current government, people have repeatedly remembered Shri Vajpayee's policies regarding Pakistan and Kashmir.


10. People believe that if it is healthy, then the BJP is never a party of anti-people, anti-egoistic and malicious policy.


11. Mayawati said that if Vajpayee was healthy, then there would be peace and harmony instead of violence in the country.

Wednesday, 15 August 2018

15 अगस्त पर BSP सुप्रीमो मायावती जी का PM मोदी पर हमला

Press Conference Mayawati ji
Press Conference Mayawati ji

15 अगस्त पर BSP सुप्रीमो मायावती जी का PM मोदी पर हमला

आज 15 अगस्त से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती जी ने Press Conference की उन्होंने PM मोदी पर सीधे हमला किया तथा उनके भाषण को चुनावी भाषण करार दिया Press Conference के मुख्य बिंदु शेयर कर रहा हूं .

  1. प्रधानमंत्री का लाल किले से दिया राजनीतिक शैली का चुनावी भाषण था ।
  2. इस लंबे चौड़े भाषण से देश की 125 करोड़ जनता को न तो कोई ऊर्जा और न ही कोई उम्मीद मिल पाई है ।
  3. प्रधानमंत्री देश की जनता को जान माल और मजहब की सुरक्षा (safety)की गारंटी देना भी भूल गए ।
  4. बहन जी ने कहा कि ऐसा भाषण प्रधानमंत्री को संसद में देना चाहिए था ताकि वहां सरकार का उत्तरदायित्व Responsibility तय हो सके और दावों को परखा जा सके ।
  5. BJP सरकार को अपनी नीतियों और क्रियाकलापों activities का हिसाब-किताब संसद में देना चाहिए और लाल किले का भाषण उम्मीद जगाने वाला होना चाहिए ।
  6. लाल किले के भाषण Speechका राजनीतिक स्वार्थ के लिए इस्तेमाल Use नहीं किया जाता तो बेहतर होता ।
  7. भाजपा अपने संकीर्ण और विद्वेश का राजनीति Politics से ऊपर उठकर काम करने वाले नहीं है ।
  8. गरीबी महंगाई Poverty और बेरोजगारी आज भारत की सबसे बड़ी समस्याएं हैं ।
  9. तेजी से बढ़ते ही विश्व की राजनीतिक और आर्थिक economic स्थितियां जैसे पेट्रोल डीजल और भारतीय मुद्रा की गिरती कीमतों पर बोलना चाहिए ।
  10. व्यापार में जारी संकट crisis के हालात और रुपयों की गिरती कीमत के बारे में PM ने एक शब्द तक नहीं बोला ।
  11. चुनावी रैलियों और संसद की तरह ही अपने भाषण में अपनी Government की सवा साल का ही बखान करते रहे  ।
  12. देश में जो कुछ भी हो रहा है उससे अच्छा बना कर उसका सारा श्रेय credit, अपने आप को देने की कला का फिर उदाहरण पेश किया है लेकिन जो भी देश में गलत अनर्थ दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण (unfortunate)हो रहा है उसका भी ठीकरा उनके खाते में ही जाएगा ।
In English :-
1.The Prime Minister's election to the political style given by the Red Fort was the speech.

2.With this long wide speech, 125 crore people of the country have neither received any energy nor any hope.

3.The Prime Minister also forgot to guarantee the safety of life and religion of the people of the country.

4.She said that such a speech should have been given to the prime minister in Parliament so that the responsibility of the government could be ascertained and the claims could be ascertained.

5.The BJP government should give account of its policies and activities in parliament and the speech of the Red Fort should be awakening.

6.If Red Fort's speech is not used for political selfishness then it would have been better.

7.The BJP is not going to rise above its narrow and intellectual politics.

8.Poverty inflation and unemployment are today India's biggest problems.

9.As fast growing, the political and economic conditions of the world such as petrol diesel and Indian currency should be spoken on falling prices.

10.The Prime Minister did not talk to a single word about the current crisis of business and the falling prices of the rupees.

11.Like the election rallies and the Parliament, he continued to spell his year of government in his speech.

12.Whatever is happening in the country, all its credit is all the credit it has given to the art of giving yourself another example. But whatever misconception is going on in the country, it will be only in the account of the misfortune and misfortune.

Source by:- Dalit News Network
Related Post:- मायावती जी की Press Conference 10 मुख्य बिन्दु